April 23, 2024

Today24Live

Voice Of All

आम बजट में करदाताओं को राहत नहीं, मोदी सरकार का निजीकरण पर जोर, पेट्रोल-डीजल पर लगा कृषि सेस

NEW DELHI: 2021-22 का आम बजट (Union Budget 2021) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन (Nirmala Sitharaman) ने सोमवार को पेश किया. आम बजट को वित्त मंत्री ने टैबलेट के जरिए पेश किया. ये बजट देश का पहला पेपरलेस बजट रहा. इस बार आम बजट (Union Budget 2021) में लोगों से जुड़े रोजमर्रा की जरूरत की चीजों के दाम बढ़ाये गये हैं. मोबाइल फोन, टैबलेट और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण महंगे होंगे. साथ ही कुछ चीजें सस्ती भी होंगी. इसबार सोना- चांदी सस्ती हुई हैं. इसके अलावा कपड़े भी सस्ते होंगे. आयकर स्लैब में वित्त मंत्री ने कोई बदलाव नहीं किया है. वहीं अब 75 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को टैक्स नहीं देना होगा.

आम बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने मोदी सरकार के निजीकरण के एजेंडे को भी आगे बढ़ाने की बात कही. इसकी जानकारी देते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि बीमा क्षेत्र में एफडीआई की लिमिट अब 74 फीसदी कर दी गई है. डूबे हुए कर्जों के लिए एक मैनेजमेंट कंपनी बनाने का भी वित्त मंत्री ने ऐलान किया. साथ ही कई सरकारी कंपनियों के विनिवेश का भी आज बजट में ऐलान किया गया.

वित्त मंत्री ने करीब पौने दो घंटे के भाषण में ऐलान करते हुए बताया कि 75 साल से अधिक आयु वाले बुजुर्गों को आईटीआर फाइल करने की जरूरत नहीं होगी. उन बुजुर्गों को ये रियायत मिलेगी, जिनकी कमाई का स्रोत पेंशन के अलावा कुछ और नहीं है. यही नहीं

वित्त मंत्री ने पेट्रोल पर 2.50 रुपये और डीजल पर 4 रुपये का कृषि सेस लगाने का भी ऐलान किया है. हालांकि उन्होंने कहा कि इसका ग्राहकों पर कोई असर नहीं होगा. लेकिन भविष्य में ग्राहकों पर इसका प्रभाव पड़ने की आशंका जताई जा रही है.

इसके अलावा ‘आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना’ का वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने  ऐलान किया है. सरकार इसपर 64 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम खर्च करेगी। वहीं सरकार ने पुराने वाहनों के लिए स्क्रैप पॉलिसी लॉन्च करने का ऐलान किया. जिसके तहत हर वाहन के लिए फिटनेस सर्टिफिकेट लेना अनिवार्य होगा.

निर्मला सीतारमण ने बजट प्रस्तुत करते हुए कहा कि 2021-22 के लिए कोविड-19 टीकों के वास्ते 35,000 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है. जरूरत पड़ने पर और राशि बढ़ाई जा सकती है. भारत पहले ही कोविड-19 के दो टीकों के इस्तेमाल की मंजूरी दे चुका है और देश में जल्द ही दो और टीकों को टीकाकरण अभियान में शामिल किया जा सकता है.

क्या हुआ महंगा: 

मोबाइल फोन

मोबाइल चार्जर

ऑटो पॉर्ट्स

इलेक्ट्रॉनिक उपकरण

जूते और चमड़े से बने सामान

इम्पोर्टेड कपड़े

सोलर इनवर्टर

क्या हुआ सस्ता: 

सोना- चांदी

लोहे के सामान

नायलान के कपड़े

स्टील के बर्तन

पेंट

ड्राई क्लीनिंग

पॉलिस्टर के कपड़े

सोलर लालटेन