May 18, 2024

Today24Live

Voice Of All

बिहार में आम बजट पर सियासी घमासान, नीतीश ने किया स्वागत तो विपक्ष का वार

PATNA: आम बजट 2021 पेश होने के साथ ही बिहार से अलग अलग सियासी दलों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. जहां एक ओर जेडीयू ने बजट का स्वागत किया है वहीं विपक्षी दल आरजेडी ने बजट पर सवाल खड़े किए हैं. आम बजट का बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने स्वागत किया है. आम बजट पर नीतीश कुमार ने कहा कि कोरोना महामारी (Covid Pandemic) से उत्पन्न मुश्किलों के बावजूद मोदी सरकार ने देश को एक संतुलित बजट (Budget 2021) दिया है, जो कि स्वागत योग्य है. मैं एक संतुलित बजट प्रस्तुत करने के लिए केंद्र सरकार को बधाई देता हूं. आम बजट पर आगे अपनी प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि वर्ष 2021-22 के लिए 34.8 लाख करोड़ रुपए का बजट पेश किया गया है, जो कि वर्ष 2020 21 के अनुमानित बजटीय खर्च से अधिक है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आगे कहा कि 15वें वित्त आयोग की अनुशंसा के आलोक में 41% राशि राज्य सरकारों को दी जाएगी.  स्वास्थ्य क्षेत्र में 2 लाख 23000 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है जो पिछले वर्ष से 137 प्रतिशत अधिक है, साथ ही नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वर्ल्ड हेल्थ की स्थापना की जाएगी. जो कि एक अच्छा कदम है.

वहीं आरजेडी ने बजट का विरोध करते हुए कहा कि इस बजट से जो उम्मीदें थीं वो पूरी नहीं हुई हैं. बिहार को इस बजट से कुछ नहीं मिला है. बिहार के 19 लाख लोगों को नौकरी कैसे मिलेगी. विपक्ष और आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने आम बजट पर सवाल उठाएं हैं. उन्होंने कहा है कि इस बजट में कोई रोजगार नहीं कोई पैकेज नहीं है. रेलवे की हालत खराब है. 39 सांसद ताली पीटने गए हैं. जनता निराश है और जनता पर अतिरिक्त बोझ डाला गया है. तेजस्वी यादव ने आगे कहा कि जहां-जहां चुनाव हैं, वहां के लिए केवल घोषणा की गई है. पटना यूनिवर्सिटी को सेंट्रल यूनिवर्सिटी का दर्जा भी नहीं दिया गया. देश को बेचा जा रहा है. ये बजट देश को बेचने का सेल था. हमलोगों को भाजपा से यही उम्मीद थी. सब निराश हैं.

 बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और एनडीए में शामिल हम पार्टी के सुप्रीमो जीतन राम मांझी ने बजट पर प्रतिक्रिया देते हुए बजट को किसानों और आम लोगो के लिए बेहतर बताया है. लेकिन निजीकरण का विरोध भी किया.

वहीं जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने कहा है कि यह बजट देश बेचने वाला बजट है. और भारतीय जनता पार्टी का मतलब यही है कि देश को बेच डालो. पप्पू यादव ने यह भी कहा कि बिहार को बजट ने कुछ नहीं दिया. भारतीय जनता पार्टी देश को बेच रही है. पप्पू यादव ने यह भी कहा कि जहां-जहां चुनाव हैं, वहां के लिए बजट में घोषणाएं की गई हैं लेकिन किसान पर कोई बातचीत नहीं की गई.