April 22, 2024

Today24Live

Voice Of All

BPSC शिक्षक बहाली परीक्षा को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का स्वतंत्रता दिवस पर बड़ा ऐलान

PATNA:  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में परेड की सलामी लेने के पश्चात् 77वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झंडोत्तोलन किया । मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में सरकारी विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों की कुल संख्या 4 लाख 39 हजार 496 है जिनमें से कुल सरकारी शिक्षकों की संख्या 59 हजार 720 है तथा  पंचायतों एवं नगर निकायों को मिलाकर कुल नियोजित शिक्षकों की संख्या 3 लाख 79 हजार 776 है। इसके अतिरिक्त, राज्य के विद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने हेतु सरकारी शिक्षकों के कुल 1 लाख 70 हजार 461 पदों पर नियुक्ति की कार्रवाई बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा की जा रही है। इसमें प्राथमिक विद्यालयों के लिए 79 हजार 943 पद, माध्यमिक विद्यालयों के लिए 32 हजार 916 पद एवं उच्च माध्यमिक विद्यालयों के लिए 57 हजार 602 पद शामिल हैं। इन पदों के लिए आवेदन प्राप्त कर लिये गये हैं। परीक्षा भी इस महीने के अंत तक हो जाएगी जिसके लिए बिहार लोक सेवा आयोग ने परीक्षा की तिथि घोषित कर दी है। इसके अतिरिक्त राज्य के प्राथमिक विद्यालयों में 40 हजार 518 प्रधानाध्यापकों की नियुक्ति की प्रक्रिया भी बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा की जा रही है। विद्यालयों के शैक्षणिक वातावरण में लगातार सुधार किया जा रहा है।

हम बच्चे-बच्चियों को पढ़ाना चाहते थे तो हमने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं के माध्यम से नगर निकायों के द्वारा बहाली हो जाए। 4000 रुपये वेतन से शुरू हुआ और अब 40,000 से भी ऊपर तक वेतन पहुंच गया। इसके बाद कई जगहों पर देखा गया कि सही ढंग से पढ़ाई नहीं हो रही है। हम बच्चे-बच्चियों को सब जगह पढ़ाना चाहते हैं। आज ही के दिन हम कह देते हैं कि पहले बहाली की प्रक्रिया पूरी हो जाने दीजिए, हम सभी शिक्षकों पर ध्यान दे रहे हैं उनके हित में हमलोग काम कर रहे हैं। हमलोग ऐसी व्यवस्था करेंगे कि वे सरकार से जुड़ जाएंगे ये काम हमलोगों के मन में है। हम सबसे आग्रह करते हैं कि पढ़ाइए ठीक से जब पढ़ाएंगे नहीं और गायब रहेंगे तो कार्रवाई होगी। जब अच्छे से पढ़ाइएगा तो हम आगे भी सोच सकते हैं। यह बात हमलोगों के दिमाग में है। आजकल कितने बच्चे-बच्चियां पढ़ रही हैं, कितने अल्पसंख्यकों के बच्चे पढ़ रहे हैं।

बच्चियों की पढ़ाई जरूरी है, इससे प्रजनन दर घटता है। पहले बिहार में प्रजनन दर 4.3 था और सर्वे हुआ था जिसमें पता चला कि लड़का-लड़की में लड़की मैट्रिक पास है तो प्रजनन दर देश के विभिन्न हिस्सों में 2 था और बिहार में भी सर्वे करवाए तो अगर लड़की मैट्रिक पास थी तो प्रजनन दर लगभग 2 था। देशभर में अगर लड़की इंटर पास है तो प्रजनन दर 1.7 था और बिहार में सर्वेक्षण हुआ तो 1.6 था। यह देखकर मुझे बहुत खुशी हुई। अब लड़कियों को भी इंटर तक पढ़ाएंगे। हमारे बिहार में प्रजनन दर 4.3 था जो घटते घटते पिछले साल ही 2.9 हो गया। अगर इसी तरह सब लड़कियां पढ़ेंगी तो बिहार का प्रजनन दर भी 2 पर आ जाएगा इसीलिए हमलोग शिक्षा पर विशेष जोर दे रहे हैं।