May 29, 2024

Today24Live

Voice Of All

GAYA : गर्मी में शुरू हुआ जलसंकट, नल-जल योजना बंद होने से छोटकी मझियामा के ग्रामीण जलसंकट से जूझ रहे, अफसर नहीं दे रहे ध्यान।

अविनाश गुप्ता, शेरघाटी, गया: शेरघाटी अनुमंडल के इमामगंज प्रखंड में इन दिनों प्रशासनिक अफसर कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम में लगे हुए हैं। यही कारण है कि ग्रामीणों की मूलभूत समस्याओं की ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। फलस्वरुप प्रखंड के गांवों में पेयजल संकट गहराता जा रहा है लेकिन जिम्मेदार अफसर पेयजल समस्या का निराकरण किए जाने को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रहे हैं। जिससे ग्रामीण प्रखंड के बाशिंदे बूंदबूंद पानी के लिए भटक रहे हैं।

गया जिले के इमामगंज प्रखंड मुख्यालय से लगभग 10 किलो मीटर दूर स्थित झिकटीया पंचायत के वार्ड नंबर 14 में जिसकी आबादी पांच सौ से अधिक है। इस वार्ड में पेयजल की समस्या गंभीर रुप से बनी हुई है। आर्थिक रुप से संपन्न लोगों के यहां निजी जल स्त्रोत ट्यूबवेल है। जिससे उन्हें पेयजल की सुविधा बनी हुई है। लेकिन गांव के कई ऐसे परिवार हैं जो बूंद-बूंद पानी के लिए भटक रहे हैं। यहां के ग्रामीण ग्राम पंचायत के द्वारा गांव में लगाए नल जल योजना से पानी की आपूर्ति करते हैं। इधर करीब 20 दिनों से उस गांव में नल-जल योजना कि टंकी क्षतिग्रस्त हो गया है। नल-जल योजना की टंकी का क्षतिग्रस्त होने का कारण यह है कि टंकी के चारों ओर रेलिंग नहीं था। इसी बीच 20 दिन पूर्व आई आंधी तूफान में यह टंकी की हवा की लहरों में क्षतिग्रस्त हो गया है। अब इस वार्ड के लोग एक कुआं के साहारे पानी भरकर अपनी प्यास बुझाने के साथ ही अन्य जरुरतों के लिए पानी का उपयोग करते है। जबकि इस वार्ड में 6 हैंडपंप बीते कई दिनों से बंद पड़े हुए हैं। जिसके चलते ग्रामीण जलसंकट से जूझ रहे हैं।

हालात यह हैं कि ग्रामीण अलहे सुबह से ही खाली बर्तन लेकर कुआं पर पहुंच जाते हैं। कुआं से भी साफ पानी नहीं निकलता है, फिर भी इसी कुआं के सहारे किसी तरह लोग अपना प्यास बुझा रहे हैं। वहीं ग्रामीणों ने बताया कि कुआं से ज्यादा पानी निकालने पर गंदा पानी निकालने लगता है तो हम लोग आसपास के खेतों में लगे निजी ट्यूबवेल से सहारा लेकर अपना प्यास बुझाते हैं। ऐसे में उस वार्ड में लाखों रुपए की लागत से नल जल योजना प्रारंभ की गई थी। लेकिन देखरेख के अभाव में उक्त नल जल योजना बीते कई दिनों से बंद पड़ी हुई है। हालांकि प्रशासन के जिम्मेदार अफसर गांव में पानी की आपूर्ति किए जाने को लेकर शीघ्र ही कार्य योजना बनाए जाने की बात कर रहे है। लेकिन अफसरों की लापरवाही के कारण ग्रामीण को खासे परेशान हैं। यही वजह है कि ग्रामीणों को बूंद-बूंद पानी के लिए भटकना पड़ रहा हैं।

गांव के ही कुछ लोग जिनके यहां निजी जल स्त्रोत है वह परेशान हो रहे ग्रामीणों के लिए पानी उपलब्ध करा रहे हैं। यहां से ग्रामीण पानी भर कर ले जाते हैं। हालांकि यह व्यवस्था स्थाई नहीं है। ग्रामीणों ने कई बार अफसरों और जनप्रतिनिधियों को समस्या से अवगत करवाया लेकिन अभी तक किसी ने ध्यान नहीं दिया है। न ही किसी ने कोई पहल की है। फलस्वरुप ग्रामीणों में अफसरों को लेकर खासी नाराजगी बनी हुई है। ग्रामीणों ने बताया कि पानी को लेकर खासी परेशानी हो रही है। कुआं पर घंटों तक खड़े रहने के बाद पानी नहीं मिल पाता है।

इस संबंध में इमामगंज बीडीओ जयकिशन कुमारी ने बताया कि आपके द्वारा हमें इस बात की जानकारी हुए हैं, मैं प्रखंड के जेएसए साहब को इसकी जानकारी देते हुए जांच कर कारवाई करते हुए शीघ्र ही उस गांव में जल ही पहुंचाने पहुंचाने का कार्य किया जाएगा।