May 18, 2024

Today24Live

Voice Of All

Chhattisgarh Bijapur Encounter: नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में 5 जवान शहीद, 30 जवान घायल, 15 नक्सलियों को भी मार गिराए जाने का दावा

Chhattisgarh Bijapur Encounter: सुरक्षा बलों और नक्सलियों के बीच जबरदस्त मुठभेड़ हुई है. ये मुठभेड़ छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित बीजापुर और सुकमा जिले की सीमा पर हुई है. जिसमें सुरक्षा बल के पांच जवान शहीद हो गए जबकि 30 अन्य जवान घायल हो गए हैं. वहीं सुरक्षा बलों का दावा है कि बीजापुर मुठभेड़ में 15 से अधिक नक्सलियों को ढेर किया गया है। अभी तक जो खबर आ रही है उसके मुताबिक बताया जा रहा है कि कल सुकमा मुठभेड़ के बाद कम से कम 15 जवान लापता हैं. इस मुठभेड़ में मारे गए 5 में से 2 जवानों का शव बरामद कर लिया गया है. वहीं घायल जवानों में 23 को बीजापुर अस्पताल में और 7 जवानों को रायपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घटना के बाद से सुरक्षा बल और पुलिस के आलाधिकारी मौके पर पहुंच कर पूरी घटना की जानकारी ले रहे हैं.

उधर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मुठभेड़ में पांच जवानों की शहादत पर दुख व्यक्त किया है. सीएम बघेल ने शहीदों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए कहा है कि सुरक्षा बलों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी. हमारे जवानों ने शौर्य का परिचय देते हुए नक्सलियों को भी भारी नुकसान पहुंचाया है. नक्सलियों के विरूद्ध सुरक्षा बल और भी तेजी से अभियान चलाएंगे. मुख्यमंत्री ने इस घटना में घायल जवानों को बेहतर इलाज की सुविधा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है.

सूचना है कि घटनास्थल से एक महिला नक्सली का शव भी बरामद किया गया है. छत्तीसगढ़ के नक्सल विरोधी अभियान के पुलिस उप महानिरीक्षक ओपी पाल ने जानकारी देते हुए बताया कि रात बीजापुर और सुकमा जिले से केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के कोबरा बटालियन, डीआरजी और एसटीएफ के संयुक्त दल को नक्सल विरोधी अभियान में रवाना किया गया था. नक्सल विरोधी अभियान में बीजापुर जिले के तर्रेम, उसूर और पामेड़ से तथा सुकमा जिले के मिनपा और नरसापुरम से लगभग दो हजार जवान शामिल थे. शनिवार दोपहर लगभग 12 बजे बीजापुर-सुकमा जिले की सीमा पर सुकमा जिले के जगरगुंड़ा थाना क्षेत्र के जोनागुड़ा गांव के करीब नक्सलियों की पीएलजीए बटालियन और तर्रेम के सुरक्षा बलों के बीच जमकर मुठभेड़ हुई. ये मुठभेड़ तीन घंटे से ज्यादा चली. मुठभेड़ में कोबरा बटालियन का एक जवान, बस्तरिया बटालियन के दो जवानों और डीआरजी के दो जवानों की मृत्यु हुई है. इस दौरान 30 जवान घायल हुए हैं.