April 23, 2024

Today24Live

Voice Of All

क्या प्रियंका गांधी संगम में डुबकी लगा यूपी में कांग्रेस पार्टी की नैया लगा पाएंगी पार ?

–By Firoz Iliyasi

यूपी में प्रियंका गांधी ने मोर्चा संभाल रखा है. मोर्चा ऐसा की अभी से चुनाव का रंग यूपी में छाने लगा है. होली से पहले इस खुशगवार मौसम में प्रियंका गांधी ने एक अलग रंग बिखेर दिया है. न चाहते हुए भी कांग्रेस के विरोधियों को प्रियंका गांधी का ये रंग परेशान करने वाला है. ये साल 2021 है और यूपी का चुनाव भी करीब है. ऐसे में कांग्रेस को यूपी में फिर सत्ता में लाने के लिए यूपी की कमान संभाली प्रियंका गांधी अभी से पूरी तरह से चुनावी रंग में रंगी नजर आ रही हैं. जी हां हम बात कर रहे हैं प्रियंका गांधी की मौनी अमावस्या के दिन गंगा स्नान की उस तस्वीर की जिसे उन्होंने सोशल मीडिया पर जारी करते हुए लिखा है कि

“आज मौनी अमावस्या के दिन देश भर के बहनों भाइयों संग पवित्र संगम पर स्नान का सौभाग्य प्राप्त हुआ। बहुत दिनों से गंगा जी में नाव चलाने की साध भी पूरी हुई।

जय माँ गंगे”

प्रियंका गांधी की ये तस्वीर बहुत कुछ कह रही है. हाथ में नारियल, फूल और कलाई में रुद्राक्ष, लाल रंग के सलवार सूट में प्रियंका गांधी ने जब संगम में डुबकी लगाई और हर-हर गंगे का उद्घोष भी किया. दरअसल मौनी अमावस्या पर प्रयागराज में गंगा, यमुना और सरस्वती के त्रिवेणी में स्नान को बहुत पवित्र माना जाता है. गंगा स्नान के दौरान प्रियंका ने अपने बेटे रेहान और बेटी मिराया के साथ संगम के तट पर पूजा भी की. जब सोशल मीडिया पर प्रियंका गांधी ने ये तस्वीर शेयर की तब ये बड़ी तेजी से वायरल हो गई.

प्रियंका गांधी यूपी की कांग्रेस की प्रभारी भी हैं. ऐसे में चुनाव की सबसे बड़ी जिम्मेदारी उनकी भी है. प्रयागराज में संगम में गंगा में डुबकी लगाना इसलिए भी खास हो जाता है, क्योंकि 2019 के लोकसभा चुनाव में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रचार का श्रीगणेश यहीं से किया था. जिसके बाद माना यूपी में बीजेपी ने चुनाव में जबरदस्त जीत हासिल की. यही वजह है कि अब प्रियंका गांधी की गंगा में इस डुबकी से बीजेपी थोड़ी असहज जरूर महसूस कर रही है. गंगा में स्नान करने के बाद भूरा देवी मंदिर में पूजा पाठ किया. फिर पुजारी ने उन्हें राजनीति में सफलता का संकल्प दिलाया. बताया जा रहा है कि पहली बार प्रियंका गांधी ने इस तरह का कोई संकल्प लिया है.

दिल्ली में कृषि कानून के विरोध में किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी है. इस आंदोलन में यूपी के भी बड़ी तादाद में किसान हिस्सा ले रहे हैं. ऐसे में प्रियंका गांधी की नजर बीजेपी के उस पारंपरिक हिंदू वोट पर भी जो किसान आंदोलन और दूसरी वजह से बीजेपी से दूर हो रहे हैं. प्रियंका गांधी खुद नाव चलाते हुए त्रिवेणी पर पहुंचती हैं. यूपी कांग्रेस की भी प्रियंका खेवनहार ही हैं. जिस तरह से वो पार्टी के कार्यकर्ताओं में दोबारा से आत्मविश्वास पैदा करने में सफल नजर आ रही है, उससे पार्टी में एक नई जान आने की उम्मीद जताई जा रही है.

पिछले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी का जो हाल हुआ वो सभी जानते हैं. राहुल गांधी अपना पारंपरिक सीट अमेठी नहीं बचा पाएं थे. यूपी विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी से गठबंधन भी पार्टी को जीत नहीं दिला पाया था. अब प्रियंका गांधी के सामने आने वाला यूपी चुनाव एक बड़ी चुनौती है. क्योंकि यूपी में बीजेपी का हिंदुत्व कार्ड सबसे ज्यादा असरदार नजर आता है. ऐसे में गंगा में डुबकी लगाकर हिंदुत्व की तमाम लहरों को पार कर प्रियंका गांधी क्या पार्टी की नैया पार लगा पाएंगी. इसपर सभी की नजरे टिकी हैं.