May 29, 2024

Today24Live

Voice Of All

डोरंडा कोषागार घोटाले में लालू यादव को 5 साल की सजा, 60 लाख का जुर्माना भी, कुल 40 दोषियों को मिली सजा

RANCHI- चारा घोटाले से जुड़े डोरंडा कोषागार से 139.35 करोड़ रुपये के घोटाला मामले में सोमवार को सजा का एलान किया गया. दोषी करार दिए गए आरजेडी के सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Yadav) को रांची में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने 5 साल की सजा सुनाई है. साथ ही लालू यादव पर 60 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है. सभी 40 दोषियों को वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट ने सजा सुनाई. इसके साथ ही कोर्ट ने 3 दोषियों को तीन-तीन साल, 32 दोषियों को 4-4 साल और लालू समेत पांच दोषियों को 5-5 साल की सजा सुनाई है.

लालू यादव समेत 40 को सजा का एलान, 5 दोषियों को 5 साल की सजा, 32 दोषियों को 4 साल और 3 दोषियों को 3 साल की सजा का एलान, कोर्ट ने 2 करोड़ तक का लगाया जुर्माना भी

लालू यादव समेत तीन अन्य दोषी स्वास्थ्य कारणों से रिम्स में भर्ती हैं. लालू यादव (Lalu Yadav)  के अलावा डॉक्टर केएम प्रसाद और यशवंत सहाय फिलहाल रिम्स में भर्ती हैं. लालू यादव को सजा के एलान के बाद अब उनके वकील हाईकोर्ट जाएंग. वहां बेल पिटीशन फाइल किया जाएगा. कोर्ट के सामने ये दलील दी जाएगी कि लालू यादव (Lalu Yadav) आधी सजा काट चुके हैं. लालू यादव के वकील ने बताया कि इस वक्त लालू यादव 73 साल के हैं. कोर्ट में उनकी खराब सेहत का हवाला दिया था.

लालू यादव (Lalu Yadav) के अलावा त्रिपुरारी मोहन प्रसाद को 4 साल की सजा और दो करोड़ का जुर्माना लगाया गया है. महिंदर सिंह बेदी को 4 साल की सजा और 1 करोड़ रुपये जुर्माना समेत 40 दोषियों को सजा का एलान किया गया. इसके अलावे तीन अन्य दोषी 15 फरवरी को कोर्ट में उपस्थित नहीं हो सके थे. जिसके चलते कोर्ट ने तीनों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया है.

जानिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनके बेटे के पास कितनी है संपत्ति ? नए साल में नीतीश कुमार ने दी जानकारी

वहीं लालू यादव के बड़े साले प्रभुनाथ यादव ने सजा प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्हें न्यायालय पर पूरा भरोसा है. कोर्ट के फैसले के खिलाफ हो हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे.

दरअसल, डोरंडा कोषागार से 139.5 करोड़ की अवैध निकासी हुई थी.1990 -95 के बीच डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी की गई थी. मामले में सीबीआई ने 170 लोगों को दोषियों बनाया था. जिसमें पांच दर्जन लोगों की सुनवाई के बीच ही मौत हो गई. केस में 99 आरोपी ट्रायल फेस कर रहे थे. साल 2003 में फाइनल चार्टशीट दाखिल किया गया था.