July 15, 2024

Today24Live

Voice Of All

GAYA : इमामगंज सीएचसी में बिना सैनिटाइज किए एक ही एंबुलेंस से लाये जा रहे हैं कोरोना संदिग्ध और प्रसूता, कोरोना संदिग्धों के लिए स्पेशल एंबुलेंस के दावे फेल!

अशोक शर्मा, इमामगंज, गया: सीएचसी के प्रशासन द्वारा वैश्विक महामारी कोरोना काे लेकर भारी लापरवाही की जा रही है। काेराेना संदिग्ध काे लाने में प्रयुक्त एंबुलेंस से ही प्रसूताअाें काे भी ढाेया जा रहा है। वहीं एक ओर अस्पताल प्रशासन यह दावा कर रहा है कि कोरोना संदिग्धों को यातायात सुविधा पहुंचाने के लिए सभी सीएचसी में अलग से एंबुलेंस उपलब्ध कराया गया है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग का यह दावा झूठा साबित हो रहा है। सीएचसी से कोरोना संदिग्धों को यातायात सुविधा उपलब्ध कराने के लिए उन्हीं 102 एंबुलेंस का इस्तेमाल किया जा रहा है जिससे क्षेत्र से प्रसूता महिलाओं को यातायात की सुविधा दी जा रही है। लापरवाही यहीं खत्म नहीं होती, इन एंबुलेंस को सैनिटाइज भी नहीं किया जाता है। इतना ही नहीं एंबुलेंस में कार्यरत कर्मी को कोविड-19 संदिग्ध को लाने ले जाने के लिए पर्याप्त सुरक्षा मुहैया नहीं कराया जा रहा है। जिस एम्बुलेंस से व पीड़ितों को गांव से अस्पताल तक नहीं लाना है। इसके बाद भी इमामगंज सीएचसी में लगा एम्बुलेंस के द्वारा राज्य स्वास्थ्य विभाग के निर्देश को धज्जियां उड़ाते हुए प्रसव पीड़ितों को गांव से अस्पताल और प्रसव होने के बाद अस्पताल से गांव तक जच्चा-बच्चा दोनों को पहुंचाया जा रहा हैं। हालांकि एम्बुलेंस चालक ऐसा करने से डरते हैं। लेकिन नौकरी बचाने के लिए इसका विरोध नहीं करते और न मीडिया के कैमरे के सामने कुछ बोलते हैं। उसी एंबुलेंस से प्रसूताओं को ला रहे है। जिस एम्बुलेंस से दो दिन पहले ही कहतो गांव के एक कोराना संदिग्ध को शेरघाटी पहुंचाया गया था। जिसे इलाज के दौरान मौत हो गई थी, जिसका पहला रिपोर्ट पॉजिटिव है। इसके बाद से सभी स्वस्थकर्मी एवं आसपास के लोगों में दहशत का माहौल है।

वहीं इमामगंज सीएचसी के एनएम और आशा प्रभारी ने बताया कि हमलोगों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए कोई सुरक्षा किट उपलब्ध नहीं कराया गया है। न ही हम लोगों को पीपीकिट, मास्क,ग्लब्स, सैनिटाइजर जैसे कोई भी सुरक्षा की चीज़ दी जा रही है। ऐसे में हमें कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार होने का खतरा सता रहा है।