April 23, 2024

Today24Live

Voice Of All

नेपाल से सीतामढ़ी में आया जल प्रलय, भारत-नेपाल सीमा के मलंगवा बॉर्डर स्थित बांध टूटने से 11 पंचायतों में बाढ़ के हालात

SITAMARHI: ज़िले में लगातार हो रही मूसलाधार वर्षा से लोगों की परेशानियां बढ़ाती जा रही हैं तो वहीं  नेपाल की नदियों ने बिहार के सीतामढ़ी में अपना जल प्रलय दिखाना शुरु कर दिया है। दरअसल नेपाल की ओर से आई आफत ने सीतामढ़ी जिले के सोनबरसा, सुरसंड, बेला, परिहार, बेलसंड, बैरगनिया के सैकड़ों गांवों को अपने आगोश में ले लिया है। सोनबरसा में लखनदेई व झीम नदी के दबाव से भारत-नेपाल सीमा के मलंगवा बॉर्डर स्थित बांध टूटने से सभी पंचायत जलमग्न हो गया है। दर्जनों घरों में पानी घुस चुका है। सड़कें ध्वस्त हो गई हैं। झीम नदी के पानी से मुख्यालय स्थित एसएसबी हनुमान चौक पर जाने वाली सड़क के तीन स्थानों पर तीन फीट पानी का बहाव जारी है।  हनुमान चौक से मेजरगंज पथ के कन्हौली पथ, ओरलहिया पथ पर पानी का बहाव जारी है। मढिया पंचायत से मुख्यालय का सम्पर्क टूट चुका है। थाना परिसर, अंचल व प्रखंड कार्यालय परिसर में बाढ़ का पानी घुस गया है। हजारों एकड़ में धान की फसलें डूब गई हैं।

वहीं बाढ़ और बारिश के पानी से बोखड़ा प्रखंड के 11 पंचायतों के सभी गांव प्रभावित हैं। हजारों एकड़ में धान की फसलें डूब चुकी हैं। प्रखंड के कई जगहों पर आवागवन पूर्ण रूप से ठप हो गया है। इधर सुरसंड में लगातार बारिश से उफनाई नदियों के तांडव से लोगों के जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चूका है। नेपाल की ऑक्सी, जंघा, रातो, हरदी, बहुरी, मरहा और झीम नदियों के संगम से भारतीय क्षेत्र में प्रखंड के श्रीखंडी भिट्ठा पूर्वी पंचायत के महादलित टोला वार्ड 5 में चार से पांच फीट पानी घरो में प्रवेश कर चुका है। भिट्ठामोड़ से चोरौत एनएच 104 भिट्ठामोड़ सड़क पर 3 फीट पानी के तेज बहाव जारी है। वहीं भिट्ठा ओपी व एसएसबी के चेक पोस्ट समेत दर्जनों दुकानों में बाढ़ का पानी प्रवेश कर चुका है। भिट्ठामोड़ से नेपाल जाने वाले महेन्द्र राज मार्ग पर भी 4 से 5 फीट बहाव जारी है।