February 28, 2024

Today24Live

Voice Of All

राज्यसभा में किसान आंदोलन पर बोले आरजेडी सांसद मनोज झा: चांद नहीं किसान मांग रहे हैं अपना हक

NEW DELHI:  राज्यसभा में सांसद और आरजेडी नेता मनोज झा (Manoj Jha) ने किसानों के मुद्दे पर मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा. राष्ट्रपति के अभिभाषण पर राज्यसभा में चर्चा के दौरान मनोज झा (Manoj Jha) ने मोदी सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज सरकार दिल्ली की सीमा पर आंदोलनकारी किसानों से ऐसे निपट रही है, जैसे सीमा पर मुकाबला किया जा रहा हो. आरजेडी सांसद मनोज झा (Manoj Jha) ने आगे कहा कि किसानों के आंदोलन की जगह पर कटीले तार, बाड़ और बैरिकेटिंग की गई है. आंदोलनों से निपटने का क्या यह उचित तरीका है? किसानों के लिए कहा गया कि आंदोलन में आतंकवादी, नक्सली, माओवादी और खालिस्तानी शामिल हो गए हैं. किसान चांद नहीं मांग रहे, अपना हक मांग रहे हैं.

यही नहीं सांसद मनोज झा (Manoj Jha) ने शायराना अंदाज और पंचतंत्र की कहानी का सदन में जिक्र करते हुए मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा किया. उन्होंने कहा कि आज बिहार के किसानों की हालत देश में सबसे ज्यादा खराब है. आज बिहार के किसान खेतिहर मजदूर बन गये हैं.अब सरकार पंजाब और हरियाणा के किसानों को भी मजदूर बनाना चाहती है. उन्होंने कहा कि कल्पना कीजिये कि एक दिन इन किसानों ने हड़ताल कर दिया और फिर क्या होगा. उन्होंने कहा कि जिन किसानों ने सरकार को 303 का आंकड़ा दिया है. वह उन्हें तीन पर भी ला सकता है.

आरजेडी सांसद मनोज झा ने दिल्ली में चल रहे किसानों के आंदोलन पर आगे कहा कि आज जेपी होते तो इन कंटीले तार, बाड़ और बैरिकेटिंग को देखकर क्या सोचते. किसानों की बात सुनी जानी चाहिए. किसान जितने बेहतर तरीके से अपना हित समझते हैं उतना न तो नेता समझते हैं और न ही सत्ता पक्ष, न विपक्ष. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सुनने और सुनाने की क्षमता होना आवश्यक है. किसान आंदोलन अब दिल्ली की सीमाओं तक ही सीमित नहीं है. यह आंदोलन अब देश के अन्य भागों में भी फ़ैल रहा है.