April 20, 2024

Today24Live

Voice Of All

‘10 लाख नौकरी नहीं, 10 लाख तमंचे खरीदेंगे तेजस्वी’ – बीजेपी नेता देंवेंद्र फणवीस

Patna: बिहार में बयानों के शोले उठने शुरू हो गए हैं। पहले चरण के चुनाव में अभी एक महीने से कम वक्त बचा है ऐसे में नेता एक दूसरे पर जुबानी हमला कर सियासत को गर्म कर दिया है। तेजस्वी यादव ने सरकार बनने पर पहली कैबिनेट की बैठक में पहली कलम से 10 लाख नौकरी देने का वायदा क्या किया, विपक्षी खेमे में हलचल मचा दी। तेजस्वी के इस बयान का बिहार चुनाव के बीजेपी प्रभारी और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री  देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadanvis) ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि अगर तेजस्वी की सरकार आई तो वो पहली कैबिनेट में 10 लाख तमंचे खरीदेंगे और अपने गुर्गे को सौंपेंगे ताकि बिहार में फिर से अपहरण और लूटपाट का उद्योग शुरू हो जाए।

देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadanvis) के इस बयान से जाहिर है बिहार के सियासी गलियारों में बयानों के शोले उठने लगे हैं। और अब महागठबंधन के नेता इस बयान का माकूल जवाब देने के लिए तैयार हैं। दरअसल मौका था बीजेपी प्रदेश कार्यालय में युवा मोर्चा के कार्यक्रम का। इस दौरान देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadanvis) ने कहा कि लालू- राबड़ी के राज में माता और बहनें घर से निकलने से डरती थी। लेकिन आज हालात बद गए हैं। ये मोदी-नीतीश-सुशील का बिहार है। बिहार के लोगों ने 15 साल तक लूटमार, अपहरण देखा है। अब ऐसी सरकार बिहार के लोगों को नहीं चाहिए।

देवेंद्र फडणवीस (Devendra Fadanvis)  ने आगे कहा कि बिहार में लालू- राबड़ी के शासनकाल में उद्योग-धंधे बिल्कुल चौपट हो गये थे। लेकिन अब हमारी सरकार का संकल्प अगले 15 साल में बिहार को आत्मनिर्भर बनाना है। जिसकी नींव इसी पांच साल में रखी जाएगी। अब बिहार का एक भी गांव पिछड़ा नहीं रहेगा और कोई बेरोजगार नहीं रहेगा। लालू परिवार पर तंज कसते हुए कहा कि NDA ने बिहार को चरवाहा विद्यालय से IIT और IIM तक पहुंचाया है।

आपको बता दें कि 27 सिंतबर रविवार को आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा था कि हमारी सरकार अगर बनती है, तो पहली कैबिनेट की बैठक में पहली कलम से 10 लाख युवाओं को रोजगार दिया जायेगा। तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav)  के इसी बयान पर देवेंद्र फडनवीस (Devendra Fadanvis) ने अब पलटवार किया है। जिसपर उन्होंने कहा कि अगर तेजस्वी की सरकार आई तो वह पहली कैबिनेट में 10 लाख तमंचे खरीदेंगे और अपने गुर्गे को सौंपेंगे ताकि बिहार में फिर से अपहरण और लूटपाट का उद्योग शुरू हो जाए।